सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में रणदीप हुड्डा को UN ने एंबेसडर के पद से हटाया

नई दिल्ली: अभिनेता रणदीप हुड्डा अपनी एक पुरानी वीडियो के वायरल होने के बाद मुश्किल में आ गए हैं. इस वीडियो में वो वो बसपा प्रमुख मायावती का मजाक उड़ाते हुए नज़र आ रहे हैं. वीडियो वायरल होने के बाद मिली प्रतिक्रिया के बाद से जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण (सीएमएस) में लगी संयुक्त राष्ट्र की एक पर्यावरण इकाई के राजदूत के पद से हुड्डा को हटा दिया गया है.

जैसे ही हुड्डा द्वारा उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती पर मजाक करने की क्लिप वायरल हुई. कई लोगों ने अभिनेता की उनकी ‘महिला विरोधी और जातिवादी’ टिप्पणी के लिए आलोचना की. माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर #ArrestRandeepHooda भी ट्रेंड कर रहा है.

 Randeep Hooda Made derogatory and casteist remark on Mayawati, twitter  trends arrest randeep hooda | Mayawati पर आपत्तिजनक कमेंट कर बुरे फंसे Randeep  Hooda, Twitter पर उठी गिरफ्तारी की मांग | Hindi

हुड्डा पर निशाना साधते हुए करते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा, ‘अगर यह नहीं बताता कि यह समाज कितना जातिवादी और सेक्सिस्ट है खासकर दलित महिलाओं के प्रति, मुझे नहीं पता कि क्या होगा, ‘मजाक’, दुस्साहस, भीड़. रणदीप हुड्डा बॉलीवुड के शीर्ष अभिनेता एक दलित महिला के बारे में बात कर रहे हैं, जो उत्पीड़ितों की आवाज रही है.

वकील महमूद प्राचा ने कहा कि यह जातिवादी होने के अलावा न केवल अभिनेता बल्कि उनके सभी दर्शकों की महिलाओं की शक्ल-सूरत के बारे में शर्मनाक मानसिकता को भी दर्शाता है.

UN ने एंबेसडर के पद से हटाया गया

जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण के लिए कन्वेंशन के सचिवालय (सीएमएस) ने भी एक बयान जारी कर घोषणा की कि हुड्डा को इसके राजदूत के रूप में हटा दिया गया है.

बयान में कहा गया है, ‘सीएमएस सचिवालय ने वीडियो में की गई टिप्पणियों को आपत्तिजनक पाया और वे सीएमएस सचिवालय या संयुक्त राष्ट्र के मूल्यों को नहीं दर्शाते हैं.’ हुड्डा ने इस मामले में कोई बयान जारी नहीं किया है.

इससे पहले 2017 में, अभिनेता को क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग का दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा गुरमेहर कौर का उपहास करने पर समर्थन देने के लिए भी टोका गया था.

हाल ही में, कई कॉमेडियन और सोशल मीडिया इन्फ़्लुएन्सर्स के ऐसे पुराने विडियो सामने आये जिनमें वो जातिवादी चुटकुले सुना रहे हैं. कॉमेडियन अबीश मैथ्यू का मायावती का मजाक उड़ाने वाला वीडियो भी हाल ही में वायरल हुआ था, जिसके बाद उन्होंने माफी मांगते हुए कहा था कि तब वह ‘अज्ञानी, अपरिपक्

Source : The Print

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

ख़ामोशी तोड़ो दलितों, आदिवासी बच्चियों के बलात्कार और हत्या पर पसरी यह चुप्पी भयानक है

आखिर राजस्थान में दो दलित छात्राओं से बलात्कार व आत्महत्या की नृसंश घटना पर इस देश में कोई मोमबत्ती क्यों नहीं जली? राजस्थान के सीकर जिले के नीम का थाना क्षेत्र के भगेगा गाँव के एक दलित बलाई परिवार की प्रथम वर्ष में पढ़ने वाली दो सगी बहनों के साथ तीन सवर्ण युवाओं ने घर में घुस कर सामुहिक बलात्कार किया। बलात्कारी पीड़िताओं के भाई के आ जाने के बाद भाग छूटे। 17 व 18 साल की इन दोनों दलित छात्राओं ने बलात्कार के बाद ट्रेन के आगे कूद कर जान दे दी। ये दर्दनाक और शर्मनाक घटना 5 अप्रैल 2017 को दिन में घटी। 8 घंटे प्रयास करने के बाद नामजद मुकदमा दर्ज किया गया। मामला बलात्कार, दलित अत्याचार,नाबालिग के लैंगिक शोषण का होने के बावजूद भी जानबूझकर सिर्फ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरण की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया। इलाके के सरपंच, विधायक और पुलिस उप अधीक्षक सब आरोपियों की जाति के है। पूरे मामले को शुरू से बिगाड़ा जा रहा है। राजस्थान में सक्रिय विभिन्न जाति संगठन ,समाज की महासभाएं, सामाजिक संगठन ,महिला संगठन ,दलों के गुलाम प्रकोष्ठ व मोर्चे तथा दलित संगठनों को भी कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड