सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान में पटवारी भरती परीक्षा के परिणाम में धांधली, ST/SC/OBC की Cutoff General से ज्यादा


RTI के तहत मांगी गई सूचना में पटवार भर्ती की GEN मेरिट मात्र 19% रही और ST-23% , SC- 24% तथा OBC- 27% की मेरिट GEN से ज्यादा रही
कैसा यह यह राजस्थान सरकार का न्याय -- क्यों कर रही हैं वसुंधरा इतना बड़ा फर्जीवाडा
कैसे रहसकती हैं SC,ST और OBC की मेरिट GEN से अधिक.. एक उदाहरन से आपको समझया जा रहा हैं ---माना की SC के एक Candidate के 115 मार्क बन रहे हैं और GEN Candidate के 114 मार्क तो SC के Candidate को GEN की Category में माना जाएगा न की SC की केटेगरी से सीट कम होगी ...जब राजस्थान पत्रिका सवानदाता ने बोर्ड के चेयरमेन से बात की तो उसने बताया की यह अनितं सूचि नहीं होने से रोस्टर लागू नहीं किया गया हैं आरक्षण रोस्टर तो अंतिम चयन सूचि में लागू किया जाएगा ....
हम आपको बताते हैं क्या खेल खेला नरेन्द्र मोदी की वसुंधरा सरकार ने बोर्ड डायरेक्टर मीना के साथ मिलकर ..पूरा लेख जरुर पढ़े आपके कोर्ट में काम आएगा ...
1.बोर्ड चेयरमेन मीना ने अपने आपको भगवान् बनाते हुए आरक्षण निति को अपने हिसाब से लागू किया हैं बोर्ड ने एक कम अंक वाले को Main Exam का मौका दे दिया लेकिन हाई अंक वाले को Main EXam देने का मौका नहीं दिया यह कहाँ का न्याय हैं .
2. किसी भी आवेदक ने बोर्ड को यह नहीं कहा था की आप दो-दो परीक्षा आयोजित करो बोर्ड ने वसुंधरा के कहने पर अपने हिसाब से आरक्षण निति को प्रभावित करने के लिए जानबूझ कर दो परीक्षा आयोजित की हैं और नक़ल न होने के बहाने का आधार लिया गया हैं
3. बोर्ड डायरेक्टर मीना ने राजस्थान पत्रिका के सवान्दाता को बताया की अंतिम चयन में आरक्षण और रोस्टर लागू किया जाएगा तो फिर अभी भी प्रारम्भिक चयन में आरक्षण को लागू क्यों किया रोस्टर को लागू क्यों नहीं किया ...पप्रारम्भिक चयन में सरकार ने आरक्षण को जानबूझकर लागू किया जिससे GEN की मेरिट नीची रहे और OBC- SCऔर ST की मेरिट ऊपर रहे और यदि प्रारम्भिक चयन सूचि में रोस्टर लागू कर देती तो सरकार का पूरा खेल ही बिगड़ जाता फिर मत्रियो को पटवारी कंहा से देती ...यदि सरकार प्रारम्भिक चयन सूचि में रोस्टर लागू कर देती जिन SC, ST और OBC अभिर्थियो के 15% अंक भी आये हैं उनका चयन होना तय था


क़ानूनी सलाह अब आप क्या कर सकते हैं :-
1. प्रधानमत्री श्री नरेन्द्र मोदी को राजस्थन में युवाओं के साथ हुए धोखे के लिए हस्क्षेप करने के लिए कह सकते हैं।
2. वसुंधरा राजे के आवास पर जाकर सीधे सवांद।
3.कोर्ट में जाकर पूरी भर्ती प्रकिया पर स्टे लाकर भर्ती की मेरिट रोस्टर के हिसाब से लागू करवाई जाए.
4. बोर्ड चेयरमेन और CM वसुंधरा के विरुद लोकायुक्त में शिकायत दर्ज करवाई जाए . बोर्ड चेयरमेन के विरुद्द FIR भी दर्ज करवाई जाए FIR कोर्ट में इस्तगासा पेश करके भी करवाई जा सकती हैं
5.
राजस्थान पटवार फर्जी वाडा में Answer Key और Cut Off को जारी करवाने के लिए सीधी जानकारी मांगे सम्बंधित Public Servant से हम निचे उन Public Servant के नाम और नंबर बता रहे है सभी से अनुरोध सभी लोग निचे लिखे Public Servant से Answer Key और Cut Off जारी करवाने के लिये फोन करके भारी दबाव बनावे.. और आपने क्या बातचीत की कमेंट में बतावे .
R.K Meena Chairman ( rsmssb) - 0141-2552795
Sh. Sanwar Mal Verma, R.A.S (सचिव) 0141-2552796 Mobile 9414189333

pre होया फिर Main हो रोस्टर क़ानूनी तौर पर सभी में लागू होता हैं माना की एक GEN वाला 104 अंक के साथ MAIN EXAM के लिए चयनित होगया और ST वाला 115 अंक लाकर भीबहार हैं तो फिर आरक्षण किसे प्राप्त हो रहा हैं
आरक्षण का अर्थ ही होता हैं कमजोर को आगे लाना.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

अर्ध सैनिक बलों नें आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ कर जांच करी कि यह लडकियां शादी शुदा हैं या नहीं

छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास नामके गाँव में 12 जनवरी 2016 की यह घटना है।  संयुक्त सैन्य बलों नें पेद्दरास गाँव में जाकर हमला किया।  सुरक्षा बलों से सरकार नें कहा हुआ है कि अगर गांव में कोई भी आदिवासी युवा लड़की अविवाहित मिलती है तो उसे नक्सली मान लिया जाय क्योंकि नक्सली लडकियां शादी नहीं करती हैं।  इसलिए आजकल बस्तर में सिपाही आदिवासी लड़कियों को जब पकड़ते हैं तो आदिवासी लडकियां सिपाहियों से कहती हैं कि हमें मत मारो हम शादी शुदा हैं। सिपाही लड़कियों से शादी शुदा होने के प्रमाण के रूप में उनके स्तनों में दूध होने का प्रमाण दिखाने के लिए कहते हैं। अधिकतर मामलों में सिपाही खुद ही आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ते हैं छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास गाँव में विवेकानंद जयंती अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन आदिवासी युवा लड़कियों पर सरकार के सिपाहियों नें हमला किया। सिपाहियों नें एक महिला का हाथ भी तोड़ दिया है। सिपाहियों नें गाँव की आदिवासी लड़कियों पर नक्सली होने का इलज़ाम लगाया लड़कियों नें कहा कि हमारी शादी हो चुकी है इस पर सिपाहियों नें लड़कियों से कहा कि सबूत दो कि तु