सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गुजरात में दलित बच्चे के बाल काटने से नाई ने किया इनकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सामाजिक समानता को बढ़ावा देने के लिए डॉ. भीमराव आंबेडकर की 125वीं जन्मशती मनाने की तैयारी कर रहे हैं वहीं देश में दलितों के साथ भेदभाव की खबरें लगातार आ रही हैं। हैदराबाद यूनिवर्सिटी में एक दलित छात्र की आत्महत्या के बाद ताजा मामला अब गुजरात का है। आरोप है कि यहां एक तीन साल के बच्चे के बाल काटने से सिर्फ इसलिए इनकार कर दिया गया क्योंकि वह दलित था।


पीएम मोदी के होमटाउन मेहसाणा से महज 8 किलोमीटर दूर कारबातिया गांव का है। मामले में वडनगर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई है। मिली जानकारी के मुताबिक, नरेश परमार को उस समय जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा जब 12 जनवरी को वह अपने बेटे दीप (तीन साल) को नाई की दुकान पर ले गए।
Image Credit : www.haribhoomi.com
परमार का आरोप है कि पहले तो नाई ने उन्हें थोड़ी देर इंतजार करने को कहा इसके बाद दरबार समुदाय के एक शख्स की कॉल के बाद उसने बच्चे के बाल काटने से इनकार कर दिया।


परमार एक डायमंड वर्कर हैं, उन्होंने हमारे सहयोगी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया,'पहले मैं अपने बच्चे को बाल कटाने के लिए वडनगर लेकर जाता था और वहां जाने में ही 50 रुपये खर्च हो जाते थे। इसलिए इस बार मैं उसे गांव में एक स्थानीय नाई की दुकान पर ले गया लेकिन उन्होंने बाल काटने से इन्कार कर दिया। दरबार सुमदाय के एक सदस्य ने नाई को धमकी दी थी कि अगर उसने मेरे बच्चे के बाल काटे तो उसे गंभीर खामियाजा भुगतना होगा। राज्य में विकास कहां हुआ है जब सभी जगहों पर बाल कटाने तक की सुविधा नहीं है?


Source:
http://navbharattimes.indiatimes.com/state/gujarat/ahmedabad/untouchability-scourge-dalit-boy-denied-haircut/articleshow/50635019.cms

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

ख़ामोशी तोड़ो दलितों, आदिवासी बच्चियों के बलात्कार और हत्या पर पसरी यह चुप्पी भयानक है

आखिर राजस्थान में दो दलित छात्राओं से बलात्कार व आत्महत्या की नृसंश घटना पर इस देश में कोई मोमबत्ती क्यों नहीं जली? राजस्थान के सीकर जिले के नीम का थाना क्षेत्र के भगेगा गाँव के एक दलित बलाई परिवार की प्रथम वर्ष में पढ़ने वाली दो सगी बहनों के साथ तीन सवर्ण युवाओं ने घर में घुस कर सामुहिक बलात्कार किया। बलात्कारी पीड़िताओं के भाई के आ जाने के बाद भाग छूटे। 17 व 18 साल की इन दोनों दलित छात्राओं ने बलात्कार के बाद ट्रेन के आगे कूद कर जान दे दी। ये दर्दनाक और शर्मनाक घटना 5 अप्रैल 2017 को दिन में घटी। 8 घंटे प्रयास करने के बाद नामजद मुकदमा दर्ज किया गया। मामला बलात्कार, दलित अत्याचार,नाबालिग के लैंगिक शोषण का होने के बावजूद भी जानबूझकर सिर्फ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरण की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया। इलाके के सरपंच, विधायक और पुलिस उप अधीक्षक सब आरोपियों की जाति के है। पूरे मामले को शुरू से बिगाड़ा जा रहा है। राजस्थान में सक्रिय विभिन्न जाति संगठन ,समाज की महासभाएं, सामाजिक संगठन ,महिला संगठन ,दलों के गुलाम प्रकोष्ठ व मोर्चे तथा दलित संगठनों को भी कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड