सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ना जाने ऐसे कितने रोहित गुमनामी के अंधेरे में खो गये!

दोस्तों रोहित वेमुला की मौत ने राष्ट्रीय स्तर पर एक नयी वहस को जन्म दिया हैं। जिसका उद्देश यह हैं के देश के उच्च शिक्षण संस्थानों में ये जातिगत भेदभाव कब तक चलता रहेगा। आज फेसबुक पर एक पाठक ने एक और दलित स्टूडेंट की स्टोरी मेरे साथ शेयर की हैं। इसे में आप लोगो के सामने रख रहा हूँ। 

छात्र का नाम- अजय श्री चन्द्रा
संस्थान का नाम - IISC, बैंगलोर
आत्महत्या दिनांक - 26 अगस्त 2007
मौत का कारण- प्रोफेसरों की क्रूर आँखे
अजय श्री चन्द्रा एक विशुद्ध गांव का लड़का होते हुए भी पीएचडी कोर्स के एडमिशन सीट में सामान्य कोटे से एडमिशन हुआ था।  उसमें पढ़ने का जूनून और उसकी प्रतिभा का अंदाज़ा इसी वात से लगाया जा सकता हैं की वह 2006 के पीएचडी एंट्रेंस एक्जाम में आल ओवर इण्डिया के टाप 12 में से एक था। 



वह एक दिन अपने कमरे में मरा हुआ मिलता है उसकी सुसाइड नोट से छेड़छाड़ किया गया था अजय जिस डायरी को रोज मेंटेन करता था उसके पन्ने गायब थे। उसके दोस्तों के अनुसार उसे भारी मानसिक प्रताड़ना दी जाती थी उसके ऊपर जाती का बार-बार लेबल लगाया जाता था। उसकी मौत होती है उसके पिताजी अपने बेटे के मौत को सामान्य मानकर ले जाते है पर वो 02 महीने बाद शाक हो जाते है जब वहां का SC/ST यूनियन यह बताता है उसकी बेटे की मौत मानसिक प्रताड़ना के चलते हुई है। 



अजय के साथ क्या हुआ नही हुआ ये जानने के लिए सिर्फ उसकी डायरी के चार लाइन काफी है “Those eyes, they scare me, they look with such inferiority/superiority complex @you. They tell everything (most of that time). Those eyes scare me… those scares me a lot. My legs are paining…”अब वो आँखे किनकी थी पुलिस आज तक नही जान पाई, कितनी खतरनाक आँखे है जो 12 आल इण्डिया टॉपर में से एक स्टूडेंट की जान ले लेती है। आँखे ही इतनी खतरनाक है तो जब ये किसी ऐसे विद्यार्थी की उत्तर पुस्तिका जांचते वक्त, इंटरव्यू में नम्बर देते वक्त, प्रेक्टिकल एक्जाम में नम्बर देते वक्त कितना कहर बरपाती होगी। सोचिये-सोचिये.......और फेसबुक जैसे माध्यम में है तो सिर्फ लाइक, शेयर कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री मत समझिये, मुर्दे की तरह मत रहिये कलम उठाइये, क्योकि कलम का ही असर है जिसके चलते सरकार टेंशन में है, मुखिया भावुक होकर भारत का लाल कह रहे है, 330, 332 वाले हैदराबाद पहुंच रहे है और लोग सड़क पर आ रहे है। कलम उठाइये कलम। 


References 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

अर्ध सैनिक बलों नें आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ कर जांच करी कि यह लडकियां शादी शुदा हैं या नहीं

छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास नामके गाँव में 12 जनवरी 2016 की यह घटना है।  संयुक्त सैन्य बलों नें पेद्दरास गाँव में जाकर हमला किया।  सुरक्षा बलों से सरकार नें कहा हुआ है कि अगर गांव में कोई भी आदिवासी युवा लड़की अविवाहित मिलती है तो उसे नक्सली मान लिया जाय क्योंकि नक्सली लडकियां शादी नहीं करती हैं।  इसलिए आजकल बस्तर में सिपाही आदिवासी लड़कियों को जब पकड़ते हैं तो आदिवासी लडकियां सिपाहियों से कहती हैं कि हमें मत मारो हम शादी शुदा हैं। सिपाही लड़कियों से शादी शुदा होने के प्रमाण के रूप में उनके स्तनों में दूध होने का प्रमाण दिखाने के लिए कहते हैं। अधिकतर मामलों में सिपाही खुद ही आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ते हैं छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास गाँव में विवेकानंद जयंती अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन आदिवासी युवा लड़कियों पर सरकार के सिपाहियों नें हमला किया। सिपाहियों नें एक महिला का हाथ भी तोड़ दिया है। सिपाहियों नें गाँव की आदिवासी लड़कियों पर नक्सली होने का इलज़ाम लगाया लड़कियों नें कहा कि हमारी शादी हो चुकी है इस पर सिपाहियों नें लड़कियों से कहा कि सबूत दो कि तु