सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आरक्षण की समीक्षा की जाये: RSS अध्यक्ष मोहन भागवत

आजकल देश में अनुसूचित जाति और जनजातियो को मिलने वाले आरक्षण के खिलाफ वयानो की बाढ़ सी आ गयी हैं। कोई तर्क दे रहा हैं की इसे ख़त्म कर देना कहिये, कोई बोल रहा हैं इसे जाति आधारित न देकर आर्थिक आधार पर दिया जाना चाहिये। मध्य प्रदेश में तो आरक्षण के खिलाफ रैली भी निकाली गयी हैं। देश के कई भागो में कई जातिया आरक्षण का लाभ लेने के लिए आन्दोलन कर रही हैं। इनमें से प्रमुख हैं गुजरात में पटेल समुदाय और राजस्थान के गुर्जर, उत्तर प्रदेश में जाट और महारास्ट्र के मराठा। 
लेकिन इन सभी घटनाओ पर गौर करें तो इन सब में केंद्र में  BJP सरकार आने के बाद से तेजी सी आ गयी हैं और इसमें कोई बड़ी बात नहीं हैं BJP का गठन ही आरक्षण का विरोध करते हुए हुआ था और इसका परम्परागत वोट बैंक हमेशा से इसके खिलाफ रहा हैं।     
देश में जगह जगह कई संगठनो के आरक्षण को लेकर चल रहे आंदोलनों पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने आरक्षण पर पुनर्विचार करने की बात कही है। संघ के मुखपत्र 'पांचजन्य' और 'आर्गेनाइज़र' को दिए इंटरव्यू में भागवत ने कहा है कि आरक्षण की ज़रूरत और उसकी समय सीमा पर एक समिति बनाई जानी चाहिए। उन्होंने मोदी सरकार को एक ऐसी समिति बनाने की सलाह दी हैं जो इस पर विचार करें। 
ये बात भी किसी से छुपी नहीं हैं की इस समय देश में जो RSS चाहता हैं वही होता हैं इस लिए मोहन भागवत के बयान को गंभीरता से लेने की ज़रूरत हैं। अतः बह समय दूर नहीं जब एक-एक करके आरक्षण का लाभ ले रही जातियों को इससे बाहर किया जाने लगे। फिलहाल BJP सरकार बिहार चुनाव को ध्यान में रखते हुए कोई कदम न उठाये लेकिन निकट भविष्य में ऐसा कुछ ज़रूर करेगी।

यह भी पढ़ें :-
1.  मध्य प्रदेश में निकाली आरक्षण को समाप्त करने के लिए रैली
2.  "RSS दलितों को रिजर्वेशन के खिलाफ करने की कोसिस कर रहा हैं "
3.  दलित एवं आदिवाशियो को आरक्षण के पक्ष में कुछ तर्क
4.  आरक्षण को खत्म करने की बात करने वालो के लिए कुछ सवाल

5.  गुजरात में छिड़ सकता हैं जाति युद्ध, दलित भी हो सकते हैं प्रभावित

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

अर्ध सैनिक बलों नें आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ कर जांच करी कि यह लडकियां शादी शुदा हैं या नहीं

छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास नामके गाँव में 12 जनवरी 2016 की यह घटना है।  संयुक्त सैन्य बलों नें पेद्दरास गाँव में जाकर हमला किया।  सुरक्षा बलों से सरकार नें कहा हुआ है कि अगर गांव में कोई भी आदिवासी युवा लड़की अविवाहित मिलती है तो उसे नक्सली मान लिया जाय क्योंकि नक्सली लडकियां शादी नहीं करती हैं।  इसलिए आजकल बस्तर में सिपाही आदिवासी लड़कियों को जब पकड़ते हैं तो आदिवासी लडकियां सिपाहियों से कहती हैं कि हमें मत मारो हम शादी शुदा हैं। सिपाही लड़कियों से शादी शुदा होने के प्रमाण के रूप में उनके स्तनों में दूध होने का प्रमाण दिखाने के लिए कहते हैं। अधिकतर मामलों में सिपाही खुद ही आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ते हैं छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास गाँव में विवेकानंद जयंती अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन आदिवासी युवा लड़कियों पर सरकार के सिपाहियों नें हमला किया। सिपाहियों नें एक महिला का हाथ भी तोड़ दिया है। सिपाहियों नें गाँव की आदिवासी लड़कियों पर नक्सली होने का इलज़ाम लगाया लड़कियों नें कहा कि हमारी शादी हो चुकी है इस पर सिपाहियों नें लड़कियों से कहा कि सबूत दो कि तु