सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'फर्जी मुठभेड़': अधिकार पैनल दलित दंपति की हत्या की जांच के लिए ओडिशा बताता है

माओवादियों के खिलाफ की आड़ में कंधमाल में पुलिस ने एक दलित दंपति की कथित हत्या में एक - एक अतिरिक्त महानिदेशक और एक राजस्व संभागीय आयुक्त द्वारा अन्य द्वारा - ओडिशा मानवाधिकार आयोग दो अलग-अलग जांच का संचालन करने के लिए राज्य सरकार से कहा है कि आपरेशनों। वे अपने गांव में अपने मोबाइल फोन पर नेटवर्क प्राप्त करने में असमर्थ थे के रूप में 26 जुलाई को, दलित ईसाई Duba नायक, उसकी पत्नी Budi नायक और तीन अन्य जोड़ों केरल में उनके पुत्र राहुल से बात करने के माओवाद प्रभावित Kotgarh ब्लॉक में Ladima पहाड़ियों के पास गई थी । तीन अन्य जोड़ों गांव Pangalipadar के लिए लौट आए, वहीं Duba और उसकी पत्नी की गोली से ग्रस्त शव अगले दिन पाया गया। ग्रामीणों ने बाद में कुछ सीआरपीएफ और एसओजी कर्मियों माओवादियों के रूप में उन्हें ब्रांडिंग, जोड़े को मार डाला था कि आरोप लगाया।

राहुल नायक, मृतक दंपति के बेटे की याचिका के जवाब में राज्य मानवाधिकार आयोग (प्रदेश के मनाव्धिकार आयोग) अभिनय अध्यक्ष न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) बी के मिश्रा दक्षिणी अतिरिक्त महानिदेशक मानवाधिकार संरक्षण प्रकोष्ठ और RDC की जांच रिपोर्ट (प्रस्तुत करने के लिए सरकार से कहा चार हफ्तों में रेंज)। प्रदेश के मनाव्धिकार आयोग भी जोड़ी के पोस्टमार्टम और जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के कंधमाल सपा पूछा। अपनी शिकायत में राहुल घटना में एक उच्च स्तरीय जांच की स्थापना के लिए सरकार को निर्देशित करने के लिए आयोग से आग्रह किया था, सीआरपीएफ कर्मियों और 50 लाख रुपये के लायक मुद्दा मुआवजा के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई शुरू। राहुल वह अपने पिता के साथ एक बातचीत हो रही थी, जबकि वह अपनी माँ के रोता सुना है कि कहा। फोन पर था, "जैसा कि मैं अपने पिता के रोता सुन सकता है। मैं अपने माता पिता से बात करने की कई बार कोशिश की, लेकिन कोई जवाब नहीं था। अगले दिन, मैं अपने माता पिता सीआरपीएफ और माओवादियों के होने का उन्हें संदेह है जो एसओजी कर्मियों द्वारा मार डाला गया था कि पता करने के लिए आया था, "उन्होंने कहा।


The Odisha Human Rights Commission has asked the state government to conduct two separate probes — one by an additional DG and the other by a revenue divisional commissioner — into the alleged murder of a Dalit couple by police in Kandhamal, under the cover of anti-Maoist operations. On July 26, Dalit Christian Duba Nayak, his wife Budi Nayak and three other couples had gone to Ladima hills in Maoist-affected Kotgarh block to talk to their son Rahul in Kerala as they were unable to get network on their mobile phone in their village. While the three other couples returned to Pangalipadar village, the bullet-ridden bodies of Duba and his wife were found the next day. The villagers later alleged that some CRPF and SOG personnel had killed the couple, branding them as Maoists.

Responding to the petition of Rahul Nayak, the son of the deceased couple, the State Human Rights Commission (SHRC) acting chairperson Justice (retd) B K Mishra asked the government to submit the probe reports of additional DG Human Rights Protection Cell and RDC (southern range) in four weeks. The SHRC also asked Kandhamal SP to submit the post-mortem and inquest reports of the couple. In his complaint, Rahul had urged the commission to direct the government to set up a high-level inquiry into the incident, initiate criminal action against the CRPF personnel and issue compensation worth Rs 50 lakh. Rahul said that while he was having a conversation with his father, he heard the cries of his mother. “As the call was on, I could hear the cries of my father. I tried several times to talk to my parents, but there was no reply. The next day, I came to know that my parents had been killed by the CRPF and the SOG personnel who suspected them to be Maoists,” he said.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"अम्बेडकरवाद" क्या है ?

आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

ख़ामोशी तोड़ो दलितों, आदिवासी बच्चियों के बलात्कार और हत्या पर पसरी यह चुप्पी भयानक है

आखिर राजस्थान में दो दलित छात्राओं से बलात्कार व आत्महत्या की नृसंश घटना पर इस देश में कोई मोमबत्ती क्यों नहीं जली? राजस्थान के सीकर जिले के नीम का थाना क्षेत्र के भगेगा गाँव के एक दलित बलाई परिवार की प्रथम वर्ष में पढ़ने वाली दो सगी बहनों के साथ तीन सवर्ण युवाओं ने घर में घुस कर सामुहिक बलात्कार किया। बलात्कारी पीड़िताओं के भाई के आ जाने के बाद भाग छूटे। 17 व 18 साल की इन दोनों दलित छात्राओं ने बलात्कार के बाद ट्रेन के आगे कूद कर जान दे दी। ये दर्दनाक और शर्मनाक घटना 5 अप्रैल 2017 को दिन में घटी। 8 घंटे प्रयास करने के बाद नामजद मुकदमा दर्ज किया गया। मामला बलात्कार, दलित अत्याचार,नाबालिग के लैंगिक शोषण का होने के बावजूद भी जानबूझकर सिर्फ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरण की धारा 306 में मामला दर्ज किया गया। इलाके के सरपंच, विधायक और पुलिस उप अधीक्षक सब आरोपियों की जाति के है। पूरे मामले को शुरू से बिगाड़ा जा रहा है। राजस्थान में सक्रिय विभिन्न जाति संगठन ,समाज की महासभाएं, सामाजिक संगठन ,महिला संगठन ,दलों के गुलाम प्रकोष्ठ व मोर्चे तथा दलित संगठनों को भी कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड