सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दलितों का नारशंहार करने वाली रणवीर सेना को BJP के कई नेता कर रहे थे मदद

रणवीर सेना के लड़ाके  
1990 के दसक में बिहार में दलितों के खिलाफ हुए नरसंहारों को कोन भूल सकता हैं। 1990 के दसक में पैदा हुए दलित और आदिवासी लोग शायद इस बात का अनुमान भी न लगा पाए के उनके बुजुर्गो पे ऊँची जाती के लोगो ने कैसे कैसे जुल्म किये हैं।  बिहार के छह जिलो आरह, अरवल, भोजपुर, गया, औरंगाबाद और जहानाबाद में 1994 से 1999 के बीच 300 से भी अधिक दलितों को बर्बरता पूर्वक मार दिया गया था। मरने वाले लोगो में जयादातर महिलाये तथा बच्चे थे। कुछ महिलाएं तो गर्भबती थी उन को भी हत्यारों बक्शा। हत्या के लिए जिम्मेदार एक ही संगठन था उस के नाम था रणवीर सेना

यह रणवीर सेना ऊँची जातियों की एक हथियार बंद गिरोह था जो की आधुनिक हटियारो जैसे AK-47, लाइट मशीन गन (LMG) आदि से लैश होता था । इस सेना के सदस्य मुख्यतया ठाकुर और ब्राह्मण जाती से थे। 1990 दसक में भूमि हीन दलित और आदिवासियो ने बेगार करने से माना कर दिया था जिससे भूमिहार लोगो को परेशानी होने लगी थी। इसी के फलस्वरूप ठाकुर और भूमिहार लोगो ने मिल कर रणवीर सेना का गठन किया।

रणवीर सेना ने छह प्रमुख नरसनहारो को अंजाम दिया जिनमे 300 से अधिक गरीब गलितों को मारा गया। ये हैं सरथुया(1995), बथानी तोला (1996), लकसमानपुर बाथे(1997), शंकर बीघा (1999), मियानपुर (2000) और इकवारी (1997) में।
शंकर बीघा गाव में बिखरी लाशें 
हाल ही में कोबरपोस्ट ने एक स्टिंग ऑपरेशन में खुलासा किया हैं की रणवीर सेना को किस तरह राजनतिक , आर्थिक और कानूनी मदद मिली थी। रणवीर सेना के हत्यारो ने कैमरा के सामने कबूल किया हैं की सारी हटाएँ उन्होने ही की थी लेकिन राजनतिक पहुच, भ्रस्ट पुलिस और लचार न्यायप्रणाली के चलते उन्हें सजा नहीं हुई।

कोबरपोस्ट के एक पत्रकार ने अपराधियो का इंटरव्यू यह कहते हुए लिया की वह एक फिल्म निर्माता हैं और रणवीर सेना पर एक फिल्म बना रहा हैं । उन्होने चंदरेश्वर, प्रमोद सिंह, भोला सिंह, अरविंद कुमार सिंह, सिद्धनाथ सिंह और रवींद्र चौधरी का साक्षात्कार लिया और वे सभी उन्होने जो हत्याएँ की हैं उनको बड़े ही गर्व पूर्वक बता रहे थे।

उन्होने यह तक बताया की भारतीय जनता पार्टी के कुछ आला नेता उनकी मदद करते रहे हैं । एक पूर्व प्रधान मंत्री ने उनको सेना के आधुनिक हतियार दिलवाने में मदद की, एक पूर्व बित्त मंत्री ने उनकी किस तरह मदद की, किस तरह से उन लोगो ने हथियार चलाने की ट्रेनिंग ली थी। सेना के पूर्व जवान उनको ट्रेनिंग देते थे, एक राजनेता ने तो पुलिस को पास आते देख अपनी गाड़ी में उनको बैठा के पुलिस से बचाया था।

इन नेताओं का नाम उजागर होने के भय से ही BJP-JDU ने सत्ता में आते ही अमीरदास आयोग को भंग कर दिया गया था जो इन हत्याओ की जाँच कर रहा था । "कोबरा पोस्ट" ने "आपरेशन ब्लैक रेन" के तहत अमीरदास आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अमीर दास और बच गए चश्मदीद गवाहों के इंटरव्यू के जरिए यह खुलासा किया है।

आज भी ये हत्यारे आज़ाद घूम रहे हैं और ज़्यादातर भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हुए हैं। कोबरा पोस्ट का सामने अपने अपराधो को कबूल करते हुए इन हत्यारों को चेहरों पर जरा भी सिकन न थी।  

Source :कोबरा पोस्ट 


यह भी पढ़ें :-

1. दलित को चारा काटने की मशीन में डाल कर काटा, अपनी मज़दूरी माँग रहा था
2. पास कराने का झांसा देकर शिक्षक ने नाबालिग दलित लड़की के साथ बलात्कार किया
3. खस्ता हाल में हैं दलित आइकॉन ' दशरथ मांझी ' का परिवार
4. बिहार में महादलित ने ऊँची जाति की लड़की से प्रेम विवाह किया,   कस्बे में तनाव

    टिप्पणियाँ

    इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

    "अम्बेडकरवाद" क्या है ?

    आज जिसे देखो वहीं, कहता नज़र आता है कि "मैं अम्बेडकरवादी हूँ"। लेकिन क्या उसे ये पता होता है की "अम्बेडकरवाद" है क्या? किसी किसी को शायद ये बड़ी मुश्किल से पता होता है कि "अम्बेडकरवाद" असल में है क्या? अम्बेडकरवाद" किसी भी धर्म, जाति, रूढ़वादिता, अंधविश्वास, अज्ञानता,किसी भी प्रकार के भेदभाव या रंगभेद को नहीं मानता, अम्बेडकरवाद मानव को मानव से जोड़ने या मानव को मानवता के लिए बनाने का नाम है। अम्बेडकरवाद वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर मानव के उत्थान के लिए किये जा रहे आन्दोलन या प्रयासों के नाम है। एक अम्बेडकरवादी होना तभी सार्थक है जब मानव, वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपना कर समाज और मानव हित में कार्य किया जाये।सुनी सुनाई या रुढ़िवादी विचारधाराओं को अपनाकर जीवन जीना अम्बेडकरवाद नहीं है।आज हर तरफ तथाकथित अम्बेडकरवादी पैदा होते जा रहे है.... परन्तु अपनी रुढ़िवादी सोच को वो लोग छोड़ने को तैयार ही नहीं है। क्या आज तक रुढ़िवादी सोच से किसी मानव या समाज का उद्धार हो पाया है? ........ अगर ऐसा होता तो शायद अम्बेडकरवाद का जन्म ही नहीं हो पाता। अम्बेडकरवादी कहलाने से

    दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य

    2011 के जनसंख्या आकड़ो के हिसाब से देश में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.6% हैं। तथा अनुमानत: 2015 तक अनुसूचित जातियों की कुल जनसंख्या 217460000 (21.74 कऱोड़) हैं। आप हमेशा सोचते होंगे की देश के किस राज्य में देश की सबसे अधिक दलित आवादी निवास करती हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य नीचे सारणी में दिखाये गए हैं तथा उन राज्यों में लगभग कितनी दलित जनसंख्या हैं वो भी लिखी हुई हैं। दलित जनसंख्या के हिसाब से 10 बड़े राज्य   Rank राज्य  % दलित आबादी   दलित आबादी 1 उत्तर प्रदेश 20.5  % 44579300 2 पश्चिम बंगाल 10.7  % 23268220  3 बिहार 8.2  % 17831720  4 तमिलनाडु 7.2  % 15657120  5 आंध्र प्रदेश 6.9  % 15004740  6 महाराष्ट्र 6.6  % 14352360  7 राजस्थान 6.1  % 13265060  8 मध्य प्रदेश 5.6  % 12177760  9 कर्नाटक 5.2  % 1130792

    अर्ध सैनिक बलों नें आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ कर जांच करी कि यह लडकियां शादी शुदा हैं या नहीं

    छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास नामके गाँव में 12 जनवरी 2016 की यह घटना है।  संयुक्त सैन्य बलों नें पेद्दरास गाँव में जाकर हमला किया।  सुरक्षा बलों से सरकार नें कहा हुआ है कि अगर गांव में कोई भी आदिवासी युवा लड़की अविवाहित मिलती है तो उसे नक्सली मान लिया जाय क्योंकि नक्सली लडकियां शादी नहीं करती हैं।  इसलिए आजकल बस्तर में सिपाही आदिवासी लड़कियों को जब पकड़ते हैं तो आदिवासी लडकियां सिपाहियों से कहती हैं कि हमें मत मारो हम शादी शुदा हैं। सिपाही लड़कियों से शादी शुदा होने के प्रमाण के रूप में उनके स्तनों में दूध होने का प्रमाण दिखाने के लिए कहते हैं। अधिकतर मामलों में सिपाही खुद ही आदिवासी लड़कियों के स्तनों को निचोड़ते हैं छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले के पेद्दरास गाँव में विवेकानंद जयंती अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन आदिवासी युवा लड़कियों पर सरकार के सिपाहियों नें हमला किया। सिपाहियों नें एक महिला का हाथ भी तोड़ दिया है। सिपाहियों नें गाँव की आदिवासी लड़कियों पर नक्सली होने का इलज़ाम लगाया लड़कियों नें कहा कि हमारी शादी हो चुकी है इस पर सिपाहियों नें लड़कियों से कहा कि सबूत दो कि तु