एक और दलित लड़की हैवानियत का शिकार..

कोई टिप्पणी नहीं
बाड़मेर के महेंद्र मेघवाल ने मुख्यमंत्री से समानित की गयी अपनी होनहार बिटिया "डेल्टा" को जैन कॉलेज नोखा में पढ़ने के लिए भेजा, इस उम्मीद के साथ की मेरी बेटी अच्छी तालीम हासिल करके कुछ बन जायेगी।
पर दोस्तों उसी कॉलेज के एक हरामी पीटीआई ने उस मासूम बच्ची को अपनी वासना का शिकार बना डाला।इस घिनोने कृत्य में उसी कॉलेज के होस्टल की वार्डन "प्रिय शुक्ला" नामक महिला ने उस राक्षस पीटीआई का सहयोग किया।



इस प्रिया शुक्ला ने इस मासूम बच्ची को पीटीआई के कमरे की सफाई के लिए भेजा, और उस हरामी ने "डेल्टा" की इज्जत लूट ली।फिर कॉलेज के संचालक ईश्वरचंद वैद के साथ मिल कर इन सब कमीनो ने उस बच्ची को मारकर पानी की टंकी जिसे हम कुण्डी कहते हैं, में डाल दिया।दोस्तों इन कसाइयो ने डेल्टा पर अत्याचार यहां तक ही नहीं किया बल्कि मरने के बाद भी उसका पीछा नहीं छोड़ा और उस बच्ची के शव को मृत पशु उठाने वाले ट्रैक्टर में डाल कर मोर्चरी तक लाये।


यहाँ तो इन्होने पूरी इंसानियत को शर्मशार किया है।एक इंसान के शव को मृत पशु उठाने वाले वाहन में डाल कर लाकर पूरी मानवता को तार तार किया है।अब इस बच्ची के परिजनों के घावो पर नमक छिड़क रहा है नोखा पुलिस प्रशासन जो की उन मुजरिमो को गिरफ्तार नहीं कर रहा और इधर पुलिस प्रशासन धरने पे बेठे लोगो को तितर बितर करने का प्रयास कर रहे है, कभी कहते है यहाँ टेंट क्यों लगाया कभी कहते हैं यहाँ रेडियो क्यों लगाया, लेकिन इस पुलिस प्रशासन को पता नहीं है की ये उग्र भीड़ अगर टेंट से निकल कर सड़को पर उत्तर आई तो कानून व्यवस्था बिगड़ जायेगी।
जिसकी जिमेदारी भी पुलिस प्रशासन की ही होगी।


हम डेल्टा मेघवाल को न्याय दिला कर ही रहेंगे
हाँ मानवता के नाते जो भाई हमारा साथ देगा हम उसका तहेदिल से शुक्रिया ।सभी दोस्तों से निवेदन है की आज सब लोग बागड़ी हॉस्पिटल नोखा की मोर्चरी के आगे धरना स्थल पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुँचो और डेल्टा मेघवाल को न्याय दिलाओ।


जय भीम।
जय मानवता
जय भारत

Source: https://www.facebook.com/photo.php?fbid=581112328720370&set=a.100202630144678.117.100004648230177&type=3&theater

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें