दलितों को बेहतर खेलना पड़ा महंगा, मैच हारता देख खिलाडिय़ों को पीटा

कोई टिप्पणी नहीं
इस देश में शिक्षण संस्थान और सरकारी कार्यालयों में ही नहीं खेल के मैदान में भी दलितों के साथ भेदभाव होता हैं। ऐसी ही एक घटना मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बमीठा थाना अंतर्गत मझगुवां गांव में खेले जा रहे क्रिकेट मैच के दौरान घटी जहा दलित खिलाडिय़ों को बेहतर प्रदर्शन करना महंगा पड़ गया। मैच हारता देख दूसरे टीम के खिलाडिय़ों व समर्थकों ने उनके साथ अभद्रता करते हुए पिटाई कर दी। पीडि़त खिलाडिय़ों ने जिला प्रशासन को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।


इमेज :www patrika.com 
मझगवां गांव में तालाब के पास स्थित नत्थू अहिवार के खेत में क्रिकेट मैच चल रहा था। जिसमें एक टीम में दलित खिलाड़ी खेल रहे थे। जब दलित खिलाडिय़ों की टीम मैच जीतने लगी तो दूसरे टीम के खिलाड़ी व उसके समर्थकों ने आपा खो दिया और वह भड़क उठे। मैच बीच में ही बंद कर दलित खिलाडिय़ों के साथ अभद्रता, गाली-गलौज की। विरोध करने पर दलित खिलाडिय़ों की पिटाई गई।



साथ ही दोबारा कभी क्रिकेट मैच नहीं खेलने की धमकी दी। मारपीट व धमकी से दहशतजदा देवेंद्र अहिरवार, मनोज अहिरवार, राजेंद्र अहिरवार व, कैलाश आदि ने जिला प्रशासन को शिकायती पत्र दिया और कार्रवाई की मांग की है।

Source:
http://mp.patrika.com/chhatarpur-news/dalit-boy-punished-for-playing-good-in-cricket-match-27665.html

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें