हिसार में जाटों व दलितों में संघर्ष, छह घायल, दो गंभीर

कोई टिप्पणी नहीं
हरियाणा में हिसार जिले के बालसमंद बस स्टैंड के पास सड़क जाम के दौरान बाइक निकालने पर हुए विवाद ने उग्र रूप धारण कर लिया। बाइक सवार को पीटने के बाद मामला इतना बढ़ा कि जाट और दलित समुदाय के लोग टकरा गए। लाठी-डंडा और पथराव के बीच फायरिंग भी हुई। इस संघर्ष में दलित समुदाय की एक महिला सहित पांच लोग घायल हो गए। दो घायलों की हालत गंभीर बनी हुई है, जो काफी देर तक सड़क पर पड़े तड़पते रहे, मगर उन्हें अस्पताल पहुंचने वाला काेई नहीं था। अचानक हुई फायरिंग में जाट समुदाय का एक बालक छर्रे लगने से घायल हो गया। झगड़े के बाद गांव में तनाव का माहौल है।



बालसमंद गांव में आरक्षण को लेकर गांव के बस स्टैंड के निकट सुबह से जाम लगा रखा था। शाम करीब चार बजे सूबे सिंह अपनी बाइक लेकर पहुंचा तो उसे निकलने नहीं दिया। सूबे सिंह के मुताबिक वह बाइक छोड़कर अपने घर चला गया। कुछ समय बाद उसका बेटा सूरज सिंह बाइक लेने गया उसकी जाम लगाने वालों से गर्मागर्मी हो गई और उसे पीट कर घायल कर दिया। इतना ही नहीं, सड़क जाम करके बैठे लोग उनके घर तक पहुंच गए। हमले की आशंका से उसका परिवार छत पर चढ़ गया, लेकिन उसके समुदाय के अन्य लोग सामने आ गए।



इसी बीच हुई फायरिंग में जाम लगाने वाले पक्ष से 11 वर्षीय एक बालक छर्रे लगने से घायल हो गया। आवेश में आए लोगों ने दूसरे समुदाय के गुलाब सिंह पुत्र चंदगी राम, विकास पुत्र गुलाब सिंह एवं बिंटू, वीरेंद्र सिंह, एवं सेवा देवी को चोट मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया। घायल काफी देर तक सड़क पर पड़े रहे। इलाज के लिए तड़पते रहे।

गांव में हुए संघर्ष के बाद घायल सड़क पर पड़े रहे। अाधे घंटे के बाद मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंचे एसएचओ सदर ललित कुमार ने सभी घायलों को तत्काल इलाज के लिए सिविल अस्पताल भिजवाया। यहां घायल गुलाब और उसके बेटे की स्थित गंभीर बनी हुई है।

बालसमंद में हुए संघर्ष के बाद तनाव भरी खामोशी छायी हुई है। हालांकि गांव में पुलिस चौकी है, लेकिन यहां फोर्स का अभाव है। देर शाम आदमपुर एसएचओ देवेंद्र नैन और सदर एसएचओ ललित कुमार, इंस्पेक्टर मायराम फोर्स के साथ गांव में मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें