पुलिस ने दलित परिवार के कपडे फाड़ नंगा किया

कोई टिप्पणी नहीं
उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में ऐसी घटना सामने आयी है जो इंसानियत को शर्मसार कर के रख देती है। मामला यूपी के ग्रेटर नोएडा के दनकौर थानाक्षेत्र का है। दनकौर थाने के प्रभारी प्रवीण यादव पर आरोप लगा है कि थाने में शिकायत दर्ज कराने आए एक दलित परिवार की एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया। जब परिवार ने इसका विरोध किया तो थाना प्रभारी ने महिला के साथ बदतमीजी और मारपीट की।साथ ही थाना प्रभारी ने दंपत्ति के बीच सड़क पर कपड़े फाड़ दिये। दलित दम्पति को सरे बाजार सब के सामने नंगा कर दिया गया।  ऐसा नहीं है कि जिस समय यह घटना घटी वहाँ कोई न था, लोगों का हुजूम था मगर सब के सब तमाशबीन बने रहे।


जमीन के विवाद के मामले में एक परिवार की तीन महिलाओं और दो पुरुषों ने बुधवार को दनकौर थाने के सामने निर्वस्त्र होकर प्रदर्शन किया।पुलिस ने उन्हें रोका तो वे हाथापाई करने लगे। हाथापाई से कई पुलिसवालों की वर्दी भी फट गई। एसओ प्रवीण कुमार का रिवॉल्वर छीनने की कोशिश भी उन्होंने की। प्रदर्शन करने वाले सुनील गौतम और उनके घरवालों का आरोप था कि दलित होने की वजह से पुलिस उनकी शिकायत पर कार्रवाई नहीं कर रही है। डेढ़ घंटे तक चले हंगामे के बाद पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। सुनील के मुताबिक गांव में उसकी आठ बीघा जमीन है। गांव के ही महावीर ने उसकी करीब एक बीघा जमीन पर कब्जा कर रखा है। तीन दिन पहले उसने इस मामले में थाने में शिकायत की थी। सुनील का कहना था कि अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं की गई और आरोपी पर भी कार्रवाई नहीं हुई। इसी वजह से परिवार के लोग निर्वस्त्र होकर प्रदर्शन करने को मजबूर हुए।नकौर थाने के एसओ प्रवीण कुमार का कहना था कि एफआईआर दर्ज हो चुकी है और जांच में आरोप साबित होने पर ही महावीर को गिरफ्तार किया जाएगा।

सुनील गौतम ने इस मामले में पहले सड़क जाम करने का एलान किया था लेकिन वह परिवार की तीन महिलाओं के साथ थाने पहुंच गया।वहां सभी ने कपड़े उतार दिए।इसके बाद मौके पर भीड़ जुट गई। पुलिसवालों ने रोका तो सुनील और महिलाओं ने हाथापाई की।महिलाओं का मामला था लेकिन थाने में कोई भी महिला पुलिसकर्मी मौजूद नहीं थी।इस वजह से पुरुष पुलिसवालों को उन्हें रोकने में भी दिक्कत हो रही थी। एसडीएम ने कब्जा होने से किया इनकार–इस मामले में एसडीएम सदर सुभाष यादव का कहना है कि सुनील और उसके परिवार की किसी भी जमीन पर कोई कब्जा नहीं है।जिस जमीन पर वह कब्जा बता रहा है वह ग्राम समाज की है और उसे यमुना प्राधिकरण ने अधिग्रहित कर लिया है।सुनील का गांव में ही एक शख्स से विवाद चल रहा है और उसके खिलाफ लूट की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। एसडीएम ने निर्वस्त्र होकर हंगामा करने को गलत बताया। उन्होंने कहा कि पुलिस इस मामले में जरूरी कार्रवाई कर रही है।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें