दनकौर में दलितो पर अत्याचार को लेकर भारतीय समन्वय संगठन के कार्यकर्ताओ ने प्रदर्शन किया

कोई टिप्पणी नहीं
दिनाक 10 अक्टूबर 2015 को भारतीय समन्वय संगठन(लक्ष्य) के सैकड़ो कार्यकर्ताओ ने फरीदाबाद न्यायालय के सामने नोएडा दनकौर में दलितों के साथ उत्तर प्रदेश पुलिस दवारा की गयी शर्म नाक घटना के विरोध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पुतला फूंका और दनकौर थाने के प्रभारी प्रवीण यादव को बर्खास्त करो के नारे लगते हुए फरीदाबाद के डी.सी. के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया। ज्ञापन में देश भर में दलितों पर हो रहे अत्याचारो को दर्शाया और भारत के राष्ट्रपति से प्रवीण यादव को बर्खास्त करने तथा देश में दलितों पर हो रहे अत्याचार पर रोक लगाने के लिए राष्ट्रपति जी से अनुरोध किया गया। 

लक्ष्य की महिला विंग कमांडर कविता जाटव ने मीडिया के माध्यम से कहा की अगर इसी तरह से दलित बहिन बेटियो के साथ अत्याचार होंगे तो हम लोग चुप नहीं बैठेगे और कहा की हम लक्ष्य के माध्यम से दनकौर थाने के प्रभारी प्रवीण यादव को बर्खास्त करने की मांग करते है। ताकि सुरक्षा बल(पुलिस) इस तरह की भविष्य में किसी भी बहिन बेटी के साथ शर्मनाक हरकत न कर सके। महेंद्र कर्दम ने फरीदाबाद जिला प्रभारी ने कहा की इस तरह के थाने के प्रभारी का इलाज़ सिर्फ और सिर्फ जोरदार विरोधो से ही किया जा सकता है। नीरज नाहरवाल गुडगाँव मंडल युथ कमांडर ने सैकड़ो कार्यकार्ताओ को संबोधित करते हुए कहा कि लक्ष्य के कार्यकर्त्ता इस प्रकार की अप्रिय घटना का झंडो और डाँडो के साथ पुरजोर विरोध करेंगे और कार्यकर्ताओ को संघर्ष के लिए तैयार रहने को कहा|

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें