ब्याज न चुका पाने पर दलित व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या

कोई टिप्पणी नहीं
कल मैंने लिखा था की किस तरह एक दलित व्यक्ति को अपने काम के पैसे मांगने पर बुरी तरह पीटा था और उसकी जीभ भी काट दी थी। आज भी कुछ ऐसी ही घटना के बारे में लिख रहा हु।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक गरीब दलित व्यक्ति की ब्याज ना चुका पाने के कारण पीट पीटकर हत्या कर दी गई । यह घटना जिले के बेहदाथ्रू गांव में हुई। मृतक की पत्नी की ओर से दर्ज करायी गयी शिकायत के अनुसार छह सितंबर को उसके पति को मिन्टू और उसके बेटे मीनू ने पीटा तथा प्रताडि़त किया ।

उसने शिकायत में कहा, दोनों ने नरेश को 40,000 रूपये दिए थे जो उसने लौटा दिए थे लेकिन वे ब्याज जोड़कर ज्यादा रूपये मांग रहे थे।

नरेश अतिरिक्त रूपये देने में असमर्थ था और उसने देने से मना कर दिया जिसके बाद दोनों आरोपियों ने छह सितम्बर को उसे बुरी तरह पीटा। उसे उसी दिन अस्पताल में भर्ती कराया गया। 
मामले पर कार्रवाई की मांग करते हुए दलित समुदाय के लोगों ने भोपा पुलिस थाने के सामने प्रदर्शन किया।

दोनों घटनाओ से एक बात साफ हैं की गलती किसी की भी हो हमेशा पिटता दलित ही हैं क्यों की वे आसान शिकर होते हैं और दबंगों का मुकावला करने के इनके पास संसाधन नहीं होते। दलित राजनेता भी एक बार वोट पाने के बाद उनको पूरी तरह भूल जाते हैं।
स्रोत : http://khabarindiatv.com/

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें