झांसी: दलित को चारपाई से बांधकर पीठ पर बरसाए डंडे

कोई टिप्पणी नहीं
झांसी में दलित उत्पीड़न का एक और मामला सामने आया है। एक युवक के अपहरण करने के आरोप में कुछ दबंगों ने दलित व्यक्ति को बेरहमी से पीट दिया। उसे चारपाई पर पीठ के बल लिटाकर बांध दिया। दबंगों ने दलित को बंधक बनाते हुए बेल्ट और डंडों से पीटा। इससे उसकी पीठ पूरी तरह से लाल हो गई। दलित किसी तरह चंगुल से भाग निकला। पीड़ि‍त के अनुसार, दबंग उसे जान से मार देना चाहते थे। 15 से 20 लोगों ने उसे मारने की तैयारी भी कर ली थी, लेकिन मौका मिलने पर वह भाग निकला और पुलिस के पास पहुंच गया।

झांसी के सीपरी बाजार थाना की पुलिस के मुताबिक, दलित को बेरहमी से पीटा गया है। उसकी हालत नाजुक है। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है। सीपरी बाजार थानाध्यक्ष कामतानाथ ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

इस घटना के बारे में बताया गया है कि जालौन निवासी एक दलित जितेन्द्र उर्फ जीतू यहां काम करने के लिए आया था। वह पेशे से राजमिस्त्री है। उसके साथ एक अन्य युवक भी काम करने पहुंचा था। वह युवक दो दिन से गायब है। आरोपियों का कहना था कि उसे दलित युवक जितेन्द्र ने ही गायब कर दिया था।
अपहरण का आरोप लगाते हुए दबंगों ने उसे बंधक बना लिया। उसे कमरे में बंद कर लिया। दलित युवक के मुताबिक, उसे कमरे में बंद कर कपड़े उतरवा कर चारपाई पर उल्टा लिटाकर चारपाई से बांध दिया। इसके बाद उसकी पिटाई की गई। उसकी पीठ पर बेल्ट और डंडे बरसाए गए।

दलित युवक का कहना था कि उसने किसी का भी अपहरण नहीं किया। उसने युवक को काम करते हुए साइट पर छोड़ दिया। इसके बाद युवक कहां गया, इसकी कोई जानकारी उसे नहीं है। यह बात बताए जाने के बाद भी दबंगों ने उसे बेरहमी से पीटा। शाम को मौका पाकर वह पुलिस की शरण में पहुंच गया।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें