इटावा में अंतरजातीय प्रेम-प्रसंग के चक्कर में दबंगों ने की दलित पिता-पुत्र की हत्या

कोई टिप्पणी नहीं
उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में कुछ दबंग लोगों ने एक दलित बाप−बेटे को ट्रैक्टर से कुचल कर मार डाला है। यह आरोप बरेली में तैनात सेल्स टैक्स के ज्वाइंट कमिश्नर कृष्ण प्रताप सिंह ने लगाया है। उनका कहना है कि उनके भाई तुलसी राम और भतीजे सुधीर कुमार जाटव को गांव के दबंग लोगों ने बस इसलिए मार डाला कि उसका किसी लड़की से प्रेम था। यह घटना 11 जुलाई को घटित हुई।

यह घटना उद्धनपुरा गांव की है। उल्लेखनीय है कि ग्राम निवासी तुलसी राम अपने पुत्र सुधीर कुमार के साथ खेत पर काम कर रहे थे। तभी गांव का एक दबंग परिवार (ठाकुर जाति) आया और उनसे मारपीट की। उसके बाद ट्रैक्टर लाकर दोनों को ट्रैक्टर के नीचे लिटाकर कुचल डाला। दबंगों ने उनके ऊपर कई बार ट्रैक्टर चढ़ाया। तुलसीराम की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी जबकि पुलिस सुधीर कुमार को सैफई अस्पताल ले गए जहां उसे बचाया नहीं जा सका। हालांकि घरवालों का आरोप यहां तक है कि पुलिस उसे अस्पताल ले ही नहीं गई।

इटावा मुलायम सिंह यादव का गृह जिला है और इस घटना ने फिर से उत्तर प्रदेश की कानून−व्ववस्था के हाल पर सवाल खड़े कर दिए हैं। वैसे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस घटना पर कहा है कि आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

घटना के पीछे प्रेम-प्रसंग का मामला बताया जा रहा है। ठाकुर जाति की लड़की और दलित जाति के लड़के बीच प्रेम प्रसंग होने से लड़की पक्ष के लोगों ने 24 घंटे पहले जान से मारने की धमकी दी थी। जिस लड़के से प्रेम-प्रसंग चल रहा था वह फरीदाबाद चला गया था। लड़की की शादी 5 माह पूर्व भिंड जिले में हुई थी। फिर भी उनका प्रेम प्रसंग जारी था।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें