जातिगत जनगणना से दलितों एवं आदिवासियों को भी होगा फायदा !!

कोई टिप्पणी नहीं
देश में  आजादी के बाद पहली वार जातिगत जनगणना की गयी हैं। धर्म के आधार पर गणना पहले भी होती रही हैं जिसका राजनैतिक पार्टिया फायदा उठती रही हैं। अनुसूचित जाती एवं जनजातियों की जनगणना भी हमेशा की जाती रही हैं और उन को रिजर्वेशन भी उसी अनुपात में मिलता हैं।जातिगत जनगणना के प्रमुख फायदे निम्लिखित हैं।

  जातिगत जनगणना के प्रमुख फायदे
  1. अगर जातिगत जनगणना हो जाती है तो यह पता चल जाएगा की किस जात की कितनी संख्या है ,और उसको उस अनुपात में आरक्षण द्वारा सरकारी नौकरी दे दी जायेगी ,ताकि सभी जातियों की बेरोजगारी दूर की जा सके। अनुसूचित जाती एवं जनजातियों को वर्तमान में जो आरक्षण हैं वो 1941 की जनगणना के अनुसार हैं। इस जनगणना से SC /ST रिजर्वेशन को बढ़ाने की माँग को वल मिलेगा क्योंकि SC/ST की जनसंख्या बढ़ चुकी हैं। 
  2. जातिगत जनगणना से यह जानकारी मिल जायेगी की कौन सी जात कितनी पढ़ी लिखी है और कौन से जात में कितने अनपढ़ है ताकि उन जातियों को विशेष रूप से एजुकेशन लेने के लिए प्रेरित किया जाय और उनकी अशिक्षा दूर की जा सके। 
  3. जातिगत जनगणना से OBC की सही आबादी मालुम हो जायेगी ताकि बार बार हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में बैठे ब्राह्मण यह न बोल सके की हमें ओबीसी की सही आबादी नहीं मालुम है इसलिए उनको रिजर्वेशन कितना दिया जाय यह हम नहीं कह सकते। 
  4. जातिगत जनगणना से तह भी पता चल जाएगा की किस जातियों में कितने IAS, IPS, IRS, IFS कितने टीचर कितने लेक्चरर कितने vice चांसलर है और कितने झाड़ू खाते में है कितने टेम्परेरी है कितने परमानेंट जॉब वाले है ताकि सारी असलियत सामने आ जाए की कौन सी जात का कब्ज्जा कहा है और कौन सी जात कहा कहा से गायब है। 
  5. जातिगत जनगणना से सबसे ज्यादा फायदा 52% से जयादा आबादी वाले ओबीसी को होगा क्योकि संख्या मालूम होने पर ही वो उसी अनुपात में भारत के बजट में अपनी भागीदारी माग पायेगा ,मतलब अगर 20 लाख करोड़ का बजट है तो उसके हिस्से में 11 लाख करोड़ रुपये आयेंगे। 
  6. जातिगत जनगणना से यह भी पता चल जाएगा की कौन सी जातियों में महिलाए ज्यादा है और कौन सी जातियों में महिलाए कम है ,किस जात में बूढ़े ज्यादा है किस जात में बच्चे ज्यादा है ताकि उस हिसाब से कन्या भ्रूण ह्त्या ,बच्चो का कुपोषण रोका जा सके। 
  7. जातिगत जनगणना में यह भी पता चल जाएगा की किस जात के पास पक्का मकान है और किस जात के लोग फुटपाथ पर सोकर जीवन बिता रहे है ताकि गरीब और पिछड़ी जातियों को पक्के मकानों का बंदोबस्त किया जा सके। 
  8. जातिगत जनगणना में यह भी पता चल जाएगा की किस जात के पास कितनी खेती है कितनी प्रोपर्टी है और कौन सी जात भुखमरी से मर रही है ताकि उन जातियों की दशा सुधारने के लिए अलग से बजट का प्रावधान किया जा सके। 
  9. जातिगत जनगणना से सभी जातियों को आर्थिक सामाजिक भौगोलिक स्तिथि का सही आकलन हो पायेगा। 
  10. जातिगत जनगणना भारत में समानता स्थापित कर सभी लोगो को उनकी सभी प्राकृतिक और भौगोलिक संपदाओ में बराबर की भागीदारी सुनिश्चित करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें