वसुंधरा के बेटे दुष्‍यंत पर दलितों की 25 बीघा जमीन हड़पने का आरोप

कोई टिप्पणी नहीं
ललित मोदी से संबंधों को लेकर पहले ही विरोधियों के निशाने पर रहीं राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे नित नई मुसीबत में फंसती जा रही है.
इस बार मामला धौलपुर में दलितों की जमीन से जुड़ा है. राजे के सासंद पुत्र दुष्यंत सिंह पर आरोप है कि उन्होंने दलित परिवारों की जमीन को हड़पा है. आरोप भी एक-दो नहीं पूरे 13 दलित किसानों की जमीन हड़पने का है. 
धौलपुर के 13 दलित परिवारों का ये दावा है कि अपने रसूख का इस्तेमाल कर 2003 में खेती की 25 बीघा जमीन पर दुष्यंत सिंह ने कब्जा कर लिया. जो उन्होंने 1991 में हेमंत सिंह नाम के शख्स से खरीदी थी. मामला अदालत में हैं. हालांकि इस पर अभी दुष्यंत सिंह की तरफ से कोई सफाई भी नहीं आई है.
इससे पहले राज्य के धौलपुर पैलेस के कथित मालिकाना हक को लेकर भी वसुंधरा राजे और दुष्यंत सिंह पर आरोप लग चुके हैं. सोमवार को ही कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने दस्तावेज पेश कर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और दुष्यंत सिंह पर आरोप लगाए थे.
जयराम रमेश ने दावा किया था कि धौलपुर पैलेस राजस्थान सरकार की संपत्ति है. उनका कहना था कि, दुष्यंत सिंह ने उस महल के एवज में 2 करोड़ रुपए का मुआवजा लिया था. यह खुलेआम घोटाला है. इसकी जांच की जानी चाहिए.
बढ़ सकती है वसुंधरा की मुश्किलें
पहले से ही विवादों में घिरीं वसुंधरा राजे के लिए आने वाला वक्त परेशानी भरा साबित हो सकता है. पहले ललित मोदी से संबंधों को लेकर, फिर धौलपुर पैलेस के मालिकाना हक को लेकर और अब उनके बेटे द्वारा दलित परिवारों की जमीन हड़पने का मामला सामने आने के बाद वसुंधरा के लिए आगे की राह कठिन हो सकती है.
शुरुआत में भले ही भाजपा आलाकमान ने उनका बचाव किया हो, लेकिन आरोपों की झड़ी लगने के बाद अब हो सकता है कि वसुंधरा राजे को लेकर कोई कड़ा फैसला आलाकमान लेने का मन बना ले.

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें